December 30, 2013

वो ज़िन्दगी जो थी अब तेरी पनाहों में (नीलकमल -1968) Woh Zindagi Jo Thi Ab Tak Teri Panahon Mein (Neelkamal -1968)

वो ज़िन्दगी जो थी अब तेरी पनाहों में
चली है आज भटकने उदास राहों में |

तमाम उम्र के रिश्ते घड़ी में ख़ाक़ हुए
हम हैं दिल में किसी के  हैं निगाहों में |

ये आज जान लिया अपनी कमनसीबी ने
कि बेग़ुनाही भी शामिल हुई ग़ुनाहों में |

किसी को अपनी ज़रूरत हो तो क्या कीजे
निकल पड़े हैं सिमटने क़ज़ा की बाँहों में |

[Music : Ravi,  Singer : Asha Bhonsle, Producer : Pannalal Maheshwary,  Director : Ram Maheshwary, Actor : Wahida Rehman, Manoj Kumar]

No comments:

Post a Comment