November 30, 2016

मैं बम्बई का बाबू, नाम मेरा अंजाना (नया दौर -1957) Main Bombay ka babu, naam mere Anjana (Naya Daur-1957)

मैं बम्बई का बाबू, नाम मेरा अंजाना
इंग्लिश धुन में गाऊं,  मैं हिंदुस्तानी गाना

यह दुनिया है उस की जो दुनिया से खेले
सख़्ती हो या नर्मी हँसते-हँसते झेले
सुन लो अजी सुन लो ! ये जादू का तराना

कुछ हैं दौलत वाले, कुछ हैं ताक़त वाले
असली वाले वो हैं,  जो  हैं हिम्मत वाले
सुन लो, अजी सुन लो ! ये जादू का तराना

आया हूं मैं बंधु रूस और चीन में जा के
काम की बात बता दी, मैंने कॉमेडी गाना गा के
सुन लो, अजी सुन लो ! ये जादू का तराना

[Composer : O.P.Nayar, Singer : Md. Rafi , Producer & Director : B.R.Chopra, Actor : Johny Walker, Dilip Kumar, Vaijyanthi Mala]

माँग के साथ तुम्हारा (नया दौर -1957) Maang ke saath tumhara (Naya Daur-1957)

माँग के साथ तुम्हारा मैंने मांग लिया संसार

दिल कहे दिलदार मिला, हम कहें हमें प्यार मिला

प्यार मिला हमें यार मिला, इक नया संसार मिला
आस मिली अरमान मिला
जीने का सामान मिला
मिल गया एक सहारा
माँग के साथ तुम्हारा

दिल जवां और रुत हसीं, चल यूँ ही चल दें कहीं
तू चाहे ले चल कहीं, तुझ पे है मुझको यकीं
जान भी तू है, दिल भी तू ही
राह भी तू, मंज़िल भी तू ही
और तू ही आस का तारा
माँग के साथ तुम्हारा


[Composer : O.P.Nayar, Singer : Md. Rafi, Asha Bhonsle, Producer & Director : B.R.Chopra, Actor : Dilip Kumar, Vaijyanthi Mala]

साथी हाथ बढ़ाना (नया दौर -1957) Sathi haath badhana (Naya Daur-1957)

साथी हाथ बढ़ाना !
एक अकेला थक जायेगा मिलकर बोझ उठाना
साथी हाथ बढ़ाना !

हम मेहनतवालों ने जब भी मिलकर कदम बढ़ाया
सागर ने रस्ता छोड़ा, परबत ने शीश झुकाया
फ़ौलादी हैं सीने अपने, फ़ौलादी हैं बाहें
हम चाहें तो पैदा कर दें, चट्टानों में राहें,
साथी हाथ बढ़ाना !

मेहनत अपनी लेख की रेखा, मेहनत से क्या डरना
कल गैरों की खातिर की, अब अपनी खातिर करना
अपना दुख भी एक है साथी, अपना सुख भी एक
अपनी मंजिल सच की मंजिल, अपना रस्ता नेक
साथी हाथ बढ़ाना !

एक से एक मिले तो कतरा बन जाता है दरिया
एक से एक मिले तो ज़र्रा बन जाता है सहरा
एक से एक मिले तो राई बन सकती है परबत
एक से एक मिले तो इंसां बस में कर ले किस्मत
साथी हाथ बढ़ाना !

माटी से हम लाल निकालें, मोती लाएं जल से
जो कुछ इस दुनिया में बना है ,बना हमारे बल से
कब तक मेहनत के पैरों में दौलत की ज़ंज़ीरें?
हाथ बढ़ाकर छीन लो अपने सपनों की ताबीरें
साथी हाथ बढ़ाना !

[Composer : O.P.Nayar, Singer : Md. Rafi, Asha Bhonsle, Producer & Director : B.R.Chopra, Actor : Dilip Kumar, Vaijyanthi Mala]

November 22, 2016

ऐ मेरी ज़ोहरा-जबीं (वक्त -1965) Aye meri zohare-jabeen (Waqt-1965)

ऐ मेरी ज़ोहरा-जबीं, तुझे मालूम नहीं
तुझ पे क़ुरबान मेरी जान मेरी जान
तो अभी तक है हसीं और मैं जवां  

ये शोखियाँ ये बाँकपन जो तुझ में है, कहीं नहीं
दिलों को जीतने का फन जो तुझ में है, कहीं नहीं
मैं तेरी आंखों में पा गया दो जहां

तू मीठे बोल जानेमन जो मुस्कुरा के बोल दो
तो धडकनों में आज भी शराबी रंग घोल दे
ओ सनम! मैं तेरा आशिक-ए-जां-विदां

 [Composer : Ravi;  Singer : Manna Dey;  Producer : B.R.Chopra;  Director : Yash Chopra;  Actor : Balraj Sahni]