January 26, 2018

इक परदेशी दूर से आया (गुमराह – 1963) Ek pardesi door se aaya (Gumrah – 1963)

इक परदेशी दूर से आया
लड़की पर  हक  अपना जताया 
घर वालों ने हामी भर दी
परदेशी की मर्ज़ी कर दी |
प्यार के वादे हुए ना पूरे
रह गए सारे ख्वाब अधूरे 
छोड़ के साथी और हमसाये
चल दी लड़की देश पराये |

दो बाहों के हार ने रोका
वादों की दीवार ने रोका
घायल दिल का प्यार पुकारा  
आंचल का हर तार पुकारा |

पर लड़की कुछ मुंह से ना बोली
पत्थर बन कर गैर की हो ली  
अब गुमसुम हैरान सी है वो  
मुझ से भी अनजान सी है वो | 

जब भी देखो चुप रहती है
कहती है तो ये कहती है 
कल की बात कोई ना जाने, कहते है ये सभी सयाने 
ये  मत सोचो कल क्या होगा, जो भी होगा अच्छा होगा 


[Composer : Ravi;  Singer : Asha Bhonsle,  Producer/Director : B.R.Chopra;  Actor : Mala Sinha] 

एक थी लड़की मेरी सहेली (गुमराह – 1963) Ek thi ladki meri saheli (Gumrah – 1963)

एक थी लड़की मेरी सहेली
साथ पली और साथ थी खेली 
फूलो जैसे गाल थे उसके
रेशम जैसे बाल थे उसके 
हंसती थी और गाती थी वो
सबके मन को भाती थी वो 
झालरदार स्कर्ट पहन के
जब चलती थी वो बन-ठन के
हम उसको गुड़िया कहते थे
रंगों की पुड़िया कहते थे 
सारे स्कूल की प्यारी थी वो
नन्ही राजकुमारी थी वो 

इक दिन उसने  भोलेपन से,
पूछा ये पापा से जा के   
अब मैं खुश रहती हूं जैसे
सदा ही क्या खुश रहूंगी ऐसे ?
पापा बोले - मेरी बच्ची
बात बताऊं तुझको सच्ची 
कल की बात न कोई जाने
कहते है ये सभी सयाने  
ये मत सोचो कल क्या होगा
जो भी होगा अच्छा होगा 

बचपन बीता आई जवानी
लड़की बन गई रूप की रानी
कालेज में इठलाती फिरती 
बलखाती लहराती फिरती|
इक सुंदर चंचल लड़के ने
छुप-छुपकर चुपके चुपके से
लड़की की तस्वीर बनाई 
और ये कहकर उसे दिखाई -
इस पर अपना नाम तो लिख दो
छोटा सा पैगाम तो लिख दो 
लडकी पहले तो शरमाई
फिर मन ही मन में मुस्काई 
बोली इक तस्वीर तुम्हारी
मैंने भी है दिल में उतारी
बोलो इस पर नाम लिखोगे
तुम भी कुछ पैगाम लिखोगे
लड़का बोला – नाम भी इक है
अब अपना पैगाम भी इक है
अब वो दोनों गाते फिरते
मस्ती में लहराते फिरते

इक दिन उसने भोलेपन से
पूछा ये अपने साजन से 
अब मैं खुश रहती हूं जैसे
सदा ही क्या खुश रहूंगी ऐसे

उसने कहा कि मेरी रानी
इतनी बात है मैंने जानी
कल की बात न कोई जाने
कहते है ये सभी सयाने 
ये मत सोचो कल क्या होगा
जो भी होगा अच्छा होगा 

[Composer : Ravi;  Singer : Asha Bhonsle,  Producer/Director : B.R.Chopra;  Actor :  Mala Sinha] 

आप आए तो ख़याले-दिले-नाशाद आया (गुमराह – 1963) Aap aaye to khayal-e-dil-e-naashad aaya (Gumrah – 1963)

आप आए तो ख़याले-दिले-नाशाद आया
कितने भूले हुए ज़ख्मों का पता याद आया

आपके लब पे कभी अपना भी नाम आया था
शोख नज़रों से मुहब्बत का सलाम आया था
उम्र भर साथ निभाने का पयाम आया था
आपको देख के वो अहदे-वफ़ा याद आया
कितने भूले हुए ज़ख्मों का पता याद आया

रूह में जल उठे बुझती हुई यादों के दीये
कैसे दीवाने थे हम आपको पाने के लिए
यूं तो कुछ कम नहीं जो आपने अहसान किए
पर जो मांगे से न पाया वो सिला याद आया
कितने भूले हुए ज़ख्मों का पता याद आया

आज वो बात नहीं फिर भी कोई बात तो है
मेरे हिस्से में ये हल्की-सी मुलाक़ात तो है
ग़ैर का हो के भी ये हुस्न मेरे साथ तो है
किस वक़्त मुझे कब का गिला याद आया
कितने भूले हुए ज़ख्मों का पता याद आया

[Composer : Ravi;  Singer : Mahender Kapoor,  Producer/Director : B.R.Chopra;  Actor : Sunil Dutt, Mala Sinha] 

ये हवा, ये हवा, ये हवा (गुमराह – 1963) Yeh hawa, ye hawa, ye hawa (Gumrah – 1963)

ये  हवा, ये  हवा, ये  हवा
ये फिजा, ये फिजाये फिजा  
है उदास जैसे मेरा दिल, मेरा दिल, मेरा दिल 
आ भी जाआ भी जाआ भी जा !

! कि अब तो  चांदनी भी जर्द हो चली, हो चली हो चली 
धडकनों की नर्म आंच सर्द हो चली, हो चली,  हो चली 
ढल चली है रात आ के  मिल! आ के  मिल!  आ के मिल! 
आ भी जाआ भी जाआ भी जा !

राह में बिछी हुई है मेरी हर नज़र, हर नज़र, हर नज़र 
मैं तड़प रहा हूं और तू है बेखबर,  बेखबर,  बेखबर 
रुक रही है सांस आ के मिल!  आ के मिल!  आ के मिल! 
आ भी जाआ भी जाआ भी जा !

[Composer : Ravi;  Singer : Mahender Kapoor,  Producer/Director : B.R.Chopra;  Actor : Sunil Dutt, Mala Sinha] 

आजा! आजा रे! तुझको मेरा प्यार पुकारे (गुमराह – 1963) Aaja aaj re, tujhko mera pyar pukare (Gumrah – 1963)

इन हवाओं मेंइन फ़िज़ाओं में
तुझको मेरा प्यार पुकारे
आजा! आजा रेतुझको मेरा प्यार पुकारे
      रुक ना पाऊं मैं, खिचती आऊं मैं
      दिल को जब दिलदार पुकारे

लौट रही हैं मेरी सदाएं, दीवारों से सर टकरा के
हाथ पकड़कर चलने वाले, हो गए रुख़सत हाथ छुड़ा के
उनको कुछ भी याद नहीं है, अब कोई सौ बार पुकारे

इल्म नहीं था इतनी जल्दी ख़त्म फ़साने हो जाएंगे
तुम बेगाने बन जाओगेहम दीवाने हो जाएंगे
कल बाहों का हार मिला थाआज अश्कों का हार पुकारे

लूट के मेरे दिल की दुनिया प्यार के झूले झूलने वाले !
पत्थर बनकर यूं चुप क्यूं है, कुछ तो कह ओ भूलने वाले!
इक पुरानी याद बुलाए, इक टूटा इकरार पुकारे
आजा आजा रेतुझको मेरा प्यार पुकारे
आजा! आजा रेतुझको मेरा प्यार पुकारे


[Composer : Ravi;  Singer : Mahender Kapoor, Asha Bhonsle,  Producer/Director : B.R.Chopra;  Actor : Sunil Dutt, Mala Sinha]

December 17, 2017

चांद मद्दम है आसमां चुप है (रेलवे प्लैटफ़ार्म -1955) Chand Maddham hai, aasmaan chup hai (Railway Platform -1955)

चांद मद्दम है आसमां चुप है
नींद की गोद में जहां चुप है

दूर वादी में दूधिया बादल, झुक के परबत को प्यार करते है
दिल में नाकाम हसरतें लेकर, हम तेरा इंतज़ार करते हैं

इन बहारों के साये में आजा, फिर मुहब्बत जवां रहे न रहे
ज़िंदगी  तेरे  नामुरादों  पर कल तलक मेहरबां रहे न रहे

रोज़ की तरह आज भी तारे, सुबह की गर्द में न खो जाएं
आ तेरे गम में जागती आंखें, कम-से-कम एक रात सो जाएं 

चांद मद्दम है आसमां चुप है
नींद की गोद में जहां चुप है


[Music : Madan Mohan, Singer ; Lata Mangeshkar;  Producer : Saigal Production, Direction : Ramesh Saigal, Actor : Sunil Dutt, Nalini Jaywant]

November 16, 2017

वादा! हां वादा! जब तक अम्बर पर तारे हों (द बर्निंग ट्रेन -1980) Wada! Han Wada! Jab taka mbar par tare hon (The Burning Train – 1980)

वादा!        हां वादा!
जब तक अम्बर पर तारे हों और धरती पर फूल खिलें
इसी जगह और इसी तरह हम दो मतवाले रोज़ मिलें
करो वादा     हां जी! वादा

देखो अब बिछड़े न मिल के निगाह
      कहा है तो हम सदा करेंगे निबाह
तपी-तपी धुली-धुली सांसें हैं गवाह
      जिएं चाहे मरें अब घटेगी न चाह
जब तक नदियों में पानी हो और पेड़ों के हाथ हिलें
      इसी जगह और इसी तरह हम दो मतवाले रोज़ मिलें

देखो कल ढूंढे नहीं हमको ये राह
      जुदा हो के जीना हो तो जीना है ग़ुनाह
मिली रही सदा यूं ही बांहों की पनाह
      घटेगा न कभी मेरा प्यार है अथाह
फूल बिछे हों इस रस्ते में या कांटों से पांव छिलें
     इसी जगह और इसी तरह हम दो मतवाले रोज़ मिलें

[Composer :  R.D.Burman,  Singer : Asha Bhonsle, Producer: B.R.Chopra, Director : Ravi Chopra, Actor : Dharmendra, Hema Malini]


पहली नज़र में हमने तो अपना दिल दे दिया था तुमको ( द बर्निंग ट्रेन -1980) Pehli nazar men hamne to apna dil de diya tha tumko (The Burning Train – 1980)

पहली नज़र में हमने तो अपना
दिल दे दिया था तुमको
पर तुमने देर लगाई
रुक-रुक के बात बढ़ाई
वैसे तो हमने मिलते ही तुमसे
अपना लिया था तुमको
पर जान के बात छुपाई
ना कहके कदर बढ़ाई

देखा तुम्हें तो हमने सबसे नज़र उठा ली
खोने की चीज़ खो ली,
पाने की चीज़ पा ली
सीधे न सही, घूम के सही मिल तो गये हैं

हमने तुम्हारी खातिर, क्या-क्या किए बहाने
आसान नहीं मोहब्बत अब तो ये बात माने
छोड़ा नहीं दम, जैसे भी हो हम मिल तो गए हैं

लिखा था आस्मां पर, यूँ ही ये खेल होना
पहले नज़र उलझना, फिर दिल का मेल होना
छोड़ो ये गिले, जैसे भी मिले, मिल तो गये हैं

[Composer :  R.D.Burman,  Singer : Md. Rafi, Asha Bhonsle, Kishore Kumar, Usha Mangeshkar;  Producer: B.R.Chopra, Director : Ravi Chopra, Actor : Dharmendra, Hema Malini, Vinod Khanna, Parveen Bobby]