August 13, 2017

गुम्बा-रुम्बा, गुम्बा-रुम्बा गेलो (लाइट हाउस - 1958) Gumba-Rumba, Gumba- Rumba Gelo (Light House -1958)

गुम्बा-रुम्बा, गुम्बा-रुम्बा गेलो
कल की बातें कल पर छोड़ो
आज मज़ा ले लो

      आ! तुझे कसम है

      आ! जहां का गम है
दिलवालों के इस मेले में मौज मना लो यारों
कस्टम-वस्टम, कल्चर वल्चर सबको गोली मारो
मुफ्त मिले जब दिल की खुशियाँ फिर तकलीफ़ें क्यों झेलो
मज़ा ले लो
गुम्बा-रुम्बा, गुम्बा-रुम्बा गेलो
     
      आ! नज़ारे हैं जवां
      आ! तू गुम है कहां
खिले खिले मुरझा न जाएं ये फूलों से चेहरे
इन फूलों को गूँथ के पहनो सर पर बांधों सेहरे
दुनिया तुम से खेल रही है तुम दुनिया से खेलो
मज़ा ले लो
गुम्बा-रुम्बा, गुम्बा-रुम्बा गेलो

[Composer : N.Dutta, Singer : Suman Kalyanpur, Mohd. Rafi, Director : G.P.Sippy]

किस जगह जाएँ, किसको दिखलाएँ (लाइट हाउस -1958) Kis jagah jayen, Kisko dekhlayen (Light House -1958)

हो किस जगह जाएँ
किसको दिखलाएँ
ज़ख़्म--दिल अपना

सारे जग में अपना कोई नहीं
सुख क्या दुख का सपना कोई नहीं
हो किस जगह जाएँ ...

दिल के अरमाँ पूरे हो न सके
हँसना कैसा खुल कर रो न सके
हो किस जगह जाएँ  


[Composer : N.Dutta, Singer : Asha Bhonsle, Director : G.P.Sippy]

मस्त पवन, मस्त गगन, मस्त है सारा समां (लाइट हाउस -1958) Mast pawan, mast gagan, masta hai sara samaan (Light House - 1958)

मस्त पवनमस्त गगनमस्त है सारा समां
अंग-अंग झूम उठेआज ऐसा रंग जमा

आज मेरी चूड़ियों के साज गुनगुना उठे
धूल  भरे रास्तों  में फूल  मुस्कुरा उठे
दिल में झिलमिलाने लगी आस की नन्हीं-सी शमा

सोई-सोई  ज़िंदगी  में  इक तरंग जाग पड़ी
करवटें बदल के दिल की हर उमंग जाग पड़ी
बिगड़ी हुई बात बनीजाता हुआ वक़्त थमा

[Composer : N.Dutta, Singer : Asha Bhonsle, Director : G.P.Sippy]

यूं तो हमने लाख हसीं देखे हैं (तुम सा नहीं देखा -1957) Yun to hamne lakh hasin dekhe hain (Tumsa Nahin Dekha - 1957)

यूं तो हमने लाख हसीं देखे हैं
तुम सा नहीं देखा

उफ! ये नज़र, उफ! ये अदाकौन न अब होगा फिदा
ज़ुल्फें हैं या बदलियां
आंखें हैं या बिजलियां
जाने किस-किसकी आएगी क़ज़ा

Note:
इस फिल्म में सिर्फ एक ही गीत साहिर का है, बाकी सभी गीत मजरूह सुल्तानपुरी के लिखे हैं |

(Composer : O.P.Nayyar, Singer Md. Rafi, Director : Nasir Hussain, Actor : Shammi Kapoor, Ameeta)

यूं तो हमने लाख हसीं देखे हैं (तुम सा नहीं देखा -1957) Yun to hamne lakh hasin dekhe hain (Tumsa nahin dekha - 1957)

यूं तो हमने लाख हसीं देखे हैं 
तुम सा नहीं देखा 
 
उफ! ये नज़र, उफ! ये अदा
कौन न अब होगा फिदा 
ज़ुल्फें हैं या बदलियां 
आंखें हैं या बिजलियां 
जाने किस-किसकी आएगी क़ज़ा  
 
तुम भी हसीं, रुत भी हसीं 
आज ये दिल बस में नहीं 
रास्ते खामोश हैं 
धड़कने मदहोश हैं 
पिये बिन आज हमें चढ़ा है नशा
 
तुम न अगर बोलोगे सनम 
मर तो नहीं जाएंगे हम 
क्या परी या हूर हो 
इतने क्यूं मगरूर हो 
मान के तो देखो कभी किसी का कहा

Note: इस फिल्म में सिर्फ एक गीत ही साहिर का है, बाकी सभी गीत मजरूह सुल्तानपुरी ने लिखे हैं |

(Composer : O.P.Nayyar, Singer Md. Rafi, Director : Nasir Hussain, Actor : Shammi Kapoor, Ameeta)

हर एक दिल में कोई अरमान है अमानत (अमानत -1975) Har Ek Dil Mein Koi Armaan Hai Amaanat (Amaanat -1975)

हर एक दिल में कोई अरमान है अमानत
हर एक नज़र में कोई पहचान है अमानत

तूफान की अमानत, साहिल एक खुश्क़ बाजू
साहिल के बाजुओं की तूफान है अमानत
हर एक दिल में कोई अरमान है अमानत

सोचें अगर कोई तो इंसा का अपना क्या है
ये जिस्म है अमानत, ये जान है अमानत
हर एक दिल में कोई अरमान है अमानत

जो तुझको मिल गया है, तेरा नहीं है नादां
दो-रोजा ज़िंदगी का सामना है अमानत
हर एक दिल में कोई अरमान है अमानत

[Composer: Ravi, Singer: Md Rafi, Director:  A Bhim Singh , Producer:  Shatrujeet Pal]

August 05, 2017

बुझे-बुझे रंग हैं नज़ारों के (अमानत -1975) Bujhe-Bujhe Rang Hain Nazaron Ke (Amaanat -1975)

बुझे-बुझे रंग हैं नज़ारों के
लुट गए काफिले बहारों के
फूलों की तमन्ना की थी, हार मिले खारों के

बीती रुतों को कोई कैसे पुकारे
हम कल तलक थे सबके, सब थे हमारे
आज मोहताज हैं सहारों के

कल ज़िंदगी थी अपनी सुख का तराना
मरने का ढूंढते हैं आज हम बहाना

कैसे-कैसे खेल हैं सितारों के

[Composer: Ravi, Singer : Asha Bhonsle, Director:  A Bhim Singh , Producer:  Shatrujeet Pal, Actor : Sadhana, Balraj Sahni] 
 

मतलब निकल गया है तो पहचानते नहीं (अमानत -1975) Matlab Nikal Gaya To Pehchante Nahin (Amaanat -1975)

मतलब निकल गया है तो पहचानते नहीं
यूं जा रहे हैं जैसे हमें जानते नहीं

अपनी गरज थी जब तो लिपटना कबूल था
बाहों के दायरे में सिमटना कबूल था
अब हम मना रहे हैं, मगर मानते नहीं

हमने तुम्हें पसंद किया, क्या बुरा किया
रुतबा ही कुछ बुलंद किया, क्या बुरा किया
हर इक गली की खाक तो हम छानते नहीं

मुंह फेर कर न जाओ हमारे करीब से
मिलता है कोई चाहने वाला नसीब से
इस तरह आशिकों पे कमान तानते नहीं

[Composer: Ravi, Singer :  Md. Rafi,  Director:  A Bhim Singh , Producer:  Shatrujeet Pal, Actor :  Manoj Kumar, Sadhana]


तेरी जवानी तपता महीना, ए नाजनीना ! (अमानत -1975) Teri Jawani Tapta Mahina, Ai Naaznina! (Amaanat -1975)

तेरी जवानी तपता महीना, ए नाजनीना !
छू ले नज़र तो आए पसीना, ए नाजनीना !

हाय! ये तेरा लहराके चलना, इठलाके चलना
रह-रह के धड़के धरती का सीना, ए नाजनीना !

तेरे बदन में फूलों की नरमी, शोलों की गरमी
हर अंग तेरा तरशा नगीना, ए नाजनीना !

आंखों में बिजली, ज़ुल्फों में बादल, सांसों में हलचल
तुझ-सी नहीं कोई कातिल हसीना, ए नाजनीना !

जीने का कोई सामान कर दे, एहसान कर दे
तेरे बगैर अब मुश्किल है जीना, ए नाजनीना !

[Composer: Ravi, Singer : Mohd. Rafi, Director:  A Bhim Singh , Producer:  Shatrujeet Pal, Actor : Sadhana, Manoj Kumar]  

खुले गगन के नीचे पंछी, घूमें डाली डाली (मेहमान-1974) Khule Gagan Ke Neeche Panchhi, Ghoome Dali Dali (Mehmaan -1974)

खुले गगन के नीचे पंछी,  घूमें डाली डाली
मैं क्या जानूं  उड़ना क्या है, मैं पिंजरे की पाली

शीशे के ताबूत में जैसे,  मछली माथा पटके
पत्थर के इस बंदी घर में, मेरी आत्मा भटके

गमले के इस फूल का जीवन, मेरी कथा सुनाये
इसी के अंदर खिले बिचारा, इसी में मुरझा जाये


[Composer : Ravi;  Singer : Minoo Purshottam;  Producer : Shatrujeet Pal,  Director : Kotayya Pratyagatma]