November 16, 2013

सिमटी हुई ये घड़ियाँ (चम्बल की कसम -1979) Simti hui ye ghadiyan (Chambal ki Kasam -1979)

 सिमटी हुई ये घड़ियाँ, फिर से न बिखर जायेँ
इस रात में जी लें हम, इस रात में मर जायेँ । 

अब सुबह न आ पाये, आओ ये दुआ माँगें
इस रात के हर पल से, रातें ही उभर जायेँ ।

दुनिया की निगाहें अब हम तक न पहुँच पायेँ
तारों में बसें चलकर धरती पे उतर जायेँ । 


हालात के तीरों से छलनी हैं बदन अपने
पास आओ के सीनों के कुछ ज़ख़्म तो भर जायेँ । 


आगे भी अन्धेरा है, पीछे भी अन्धेरा है
अपनी हैं वो ही साँसें, जो साथ गुज़र जायेँ । 

बिछड़ी हुई रूहों का ये मेल सुहाना है
इस मेल का कुछ अहसास जिस्मों पे भी कर जायेँ । 
 
तरसे हुये जज्बों अब और न तरसाओ
तुम शाने पे सर रख दो, हम बाँहों में भर जायेँ
। 


[Composer : Khayyam, Singer : Lata Mangeshkar, Md. Rafi, Director : Ram Maheshwari, Actor : Rajkumar, Mausami Chaterjee]
 

1 comment:

  1. sayar ki soch ki gahrai aur seema ko zara gour farmaiye ga is gaane ka, wah kya baat hai. yahi to hai asli kalakari jo insaan ko amar banata hai. kas aisa hota k in jaise sapoot is dharti ko aur do char mil jata.maagar afsos aaj kaal aisa parwarais hi nahi di jaati k naye kalamkar uvar k aye aur is tadapti hui dharti k atma ko kuch sukoon de. ummid lagaye baitha hun chamatkaar k intezaar mein.samajhne walo k liye meri dua hai k saalamat raho aur kaalakar ki kadar karo take woh aag phir se sulge aur duniya roshan ho.jai hind

    ReplyDelete