April 29, 2011

न तू जमीं के लिए है, न आसमां के लिए (दास्तान-1972) Na tu zameen ke liye hai, na asmaan ke liye (Dastaan -1972)

न तू जमीं के लिए है, न आसमां के लिए
तेरा वजूद है अब सिर्फ दास्तां  के लिए । 

पलट  के  सू-ए-चमन  देखने से क्या होगा
वो शाख ही ना रही, जो थी आशियां के लिए ।

गरज परस्त जहां में वफ़ा तलाश न कर
यह  शै बनी थी, किसी दूसरे जहां के लिए ।


[Composer : Laxmikant Pyare Lal, Singer : Md. Rafi;  Producer/Director : B.R.Chopra, Artist : Dilip Kumar ]


No comments:

Post a Comment