May 19, 2015

इश्क़ और मुश्क़ कदे न छुप दे (काला पत्थर -1979) Isq aur musq kade na chhup de (Kala Pathar-1979)

इश्क़ और मुश्क़ कदे न छुप दे, ते चाहे लख छुपाइये
अखां लख झुका के चलिये, ते पल्ला लख बचाइये
इश्क़ है सच्चे रब दी रहमत, इश्क़ तों क्यूँ शर्माइये
चढ़ दे चंद ने चढ़ के रहना, कान्नू पर्दे पाइये


जग्गेया जग्गेया जग्गेया,
कदे इश्क़ छुपण नयो लगेया

दुनिया दी इस भीड़ दे अंदर, जे कोई अपणा पाइये
अपणे नूँ खुशकिस्मत कहिये, ते रब दा शुकर मनाइये
दिल बदले दिल मिलें ते यारा, सौदा झट चुकाइये
अम्बर ते जो स्वर्ग बसे, ओ धरती ते लै आइये

जग्गेया जग्गेया जग्गेया,
कदे इश्क़ छुपण नयो लगेया

दुनिया चार दिनां दा मेला, मत्थे बल न पाइये
कौण भले कौण मन्दे जग विच्च, सबणा नाल निभाइये
जग्गेया जग्गेया जग्गेया

सान्नू कौल ऐ सच्चा लगेया

पापां दी इस नगरी अंदर किस दे ऐब गिणाइये
अपणे अंदर जद-जद तकिये, अपणे तों शर्माइये

जग्गेया जग्गेया जग्गेया
सान्नू कौल ऐ सच्चा लगेया  


[Music : Rajesh Roshan;  Singer : Mahendra Kapoor, Pamela Chopra, S.K.Mahaan;  Producer/Director : Yash Chopra;   Artist : Parikshit Sahni, Amitabh Bachchan, Rakhi]



No comments:

Post a Comment