January 11, 2014

लोग कहते हैं कि तुझसे किनारा कर लें (बहू बेगम -1967) Log kahte hain ki tujse kinara kar le (Bahu Begum -1967)

लोग कहते हैं कि हम तुम से किनारा कर लें
तुम जो कह दो तो सितम ये भी गवारा कर लें |


तुमने जिस हाल--परेशाँ से निकाला था हमें
आसरा दे के मोहब्बत का सम्भाला था हमें
सोचते हैं के वही हाल दोबारा कर लें |

 
यूँ भी अब तुमसे मुलाक़ात नहीं होने की
मिल भी जाओ तो कोई बात नहीं होने की
आख़िरी बार बस अब ज़िक्र तुम्हारा कर लें |


आख़िरी बार ख़्यालों में बुला लें तुमको
आख़िरी बार कलेजे से लगा लें तुमको
और फिर अपने तड़पने का नज़ारा कर लें |


[Composer: Roshan,  Singer : Md. Rafi, Producer : Jan Nisar Akhtar,  Director : M.Sadiq ]
 

No comments:

Post a Comment