May 15, 2011

ये रात ये चांदनी फिर कहाँ (जाल -1952) Ye Raat Ye Chandni Phir Kahan (Jaal-1952)

ये रात ये चांदनी फिर हां सुन जा दिल की दास्तां

पेड़ों की शाखों पे सोई-साई चांदनी
तेरे  ख्यालों  में  खोई—खोचांदनी
और  थोड़ी  देर  में  थक  के  लौट जागी
रात  ये बहार  की  फिर  कभी   आएगी
दो  एक  पल  और  है  ये  मां

लहरों  के  होंठो  पे धीमा-धीमा  राग  है
भीगी हवाओं  में ठंडी-ठंडी आग  है
इस  हसीं  आग में  तू   भी जल के देख ले
ज़िन्दगी के गीत  की धुन बदल के देख ले
खुलने दे अब कनों की ज़बां

जाती  बहारें  हैं उठती  जवानियां
तारों  की  छांव में ह ले कहानियां
एक बार चल दिए गर तुझे  पुकार के
लौटकर  आयेंगे  काफिले  बहार  के
आजा  अभी  ज़िन्दगी है वां

[Composer : S.D.Burman, Singer : Hement Kumar;   Producer : Films Arts;  Director : Guru Dutt;  Actor : Dev Anand, Geeta Bali]
 

video

No comments:

Post a Comment